शुक्रवार, 9 अप्रैल 2010

दुनिया बेगानी है जरा सोंच लो...

शिव गुरु गुण गाने से मिल जाता है ज्ञान
माटी के देह पे किया जाता नहीं है गुमान
दुनिया बेगानी है जरा सोंच लो...
यही जिंदगानी है जरा सोंच लो ...

मिलता है मानव शरीर जब बदलते हैं लाखों चोले
दुनिया में आके सब क्यूँ उठाते हैं इतने झमेले
चार दिनों की चांदनी है,
फिर तो अंधियारी है जरा सोंच लो...
दुनिया बेगानी है जरा सोंच लो...

खेलों में बिताया बचपन और ऐश में जवानी गुजारी
आया है बुढ़ापा अब तो, याद करते हो बीती कहानी
जान न पाया जीवन को तू,
तू तो अज्ञानी है जरा सोंच लो ...
दुनिया बेगानी है जरा सोंच लो...

दुनिया की रीत है वन्दे, कोई जाए न साथ किसी के
गुरु नाम जप ले, वही जाता है साथ सभी के
शिव नाम बोल,
गुरु नाम ले यही, यही गुरु वाणी है जरा सोंच ले
दुनिया बेगानी है जरा सोंच लो...

शिव गुरु गुण गाने से मिल जाता है ज्ञान
माटी के देह पे किया जाता नहीं है गुमान
दुनिया बेगानी है जरा सोंच लो...
यही जिंदगानी है जरा सोंच लो ...

21 टिप्‍पणियां:

  1. काफी संतुष्टि प्रदान कर गई यह कविता।

    उत्तर देंहटाएं
  2. बहुत सुन्दर..
    दुनिया बेगानी है जरा सोंच लो...
    यही जिंदगानी है जरा सोंच लो ... बहुत बढ़िया जी,
    कुंवर जी,

    उत्तर देंहटाएं
  3. guru ki mahima aur kya seekh thi is rachna me ...maan gaye,

    http://dilkikalam-dileep.blogspot.com/

    उत्तर देंहटाएं
  4. आपकी रचनाओं की दिशा बहुत सही है....
    मुझे पसंद आई.
    लिखते रहिये.

    उत्तर देंहटाएं
  5. रचना बहुत बढ़िया लगी, आभार!!

    उत्तर देंहटाएं
  6. किस खूबसूरती से लिखा है आपने। मुँह से वाह निकल गया पढते ही।

    उत्तर देंहटाएं
  7. मिलता है मानव शरीर जब बदलते हैं लाखों चोले
    दुनिया में आके सब क्यूँ उठाते हैं इतने झमेले
    चार दिनों की चांदनी है,
    फिर तो अंधियारी है जरा सोंच लो...
    दुनिया बेगानी है जरा सोंच लो...
    .... yahi to jindagi hai...

    उत्तर देंहटाएं
  8. kavita ka sheershak hi kheech laaya yahan mujhe padhne ko..
    दुनिया बेगानी है जरा सोंच लो...
    waah bahut hi behtareen rachna....
    aane waali rachnaon ka v intzaar rahega.....
    shekhar ( http://i555.blogspot.com/ )

    उत्तर देंहटाएं
  9. जीवन की सच्चाई से अवगत करवाती हुई बहुत ही अच्छी रचना...बधाई
    नीरज

    उत्तर देंहटाएं
  10. "दुनिया बेगानी है जरा सोच लो..."
    अध्यात्मिक सन्देश देता भजन पढ़कर अच्छा लगा

    उत्तर देंहटाएं
  11. शिव गुरु गुण गाने से मिल जाता है ज्ञान
    माटी के देह पे किया जाता नहीं है गुमान
    दुनिया बेगानी है जरा सोंच लो...
    यही जिंदगानी है जरा सोंच लो ...

    बहुत सुंदर.....!!

    उत्तर देंहटाएं
  12. आधे सत्य और आधे असत्य को दर्शाती है
    ये कविता. फ़िर भी ये सोच मौलिक है
    अर्थात कहीं से प्रभावित नहीं है तो
    प्रसंशनीय है .ये बात नीचे की दो पैरोडी
    को देखकर मन में आती है .वास्तव में
    गुरु ग्यान को लेकर भी आपका भाव अधिक
    स्पष्ट नहीं हैं ..ये वास्तव में उसी तरह है कि
    कोई बीमार सोच ले कि मर जाना है और मुझे ही
    क्या हरेक को मर जाना है और इस पर एक दार्शनिक
    चिंतन करके रह जाय ..ऐसा नहीं हैं हर चीज का
    इलाज है और इसका सबसे बेहतरीन उदाहरण है
    राजा परीक्षित..
    satguru-satykikhoj .blogspot.com

    उत्तर देंहटाएं
  13. राइना जी। आपके ब्‍लाग पर आकर अच्‍छा लगा। आपकी कविता में एक शब्‍द आया है। सोच। आपने उसे सोंच लिखा है। कृपया सुधार लें। शुभकामनाएं।

    उत्तर देंहटाएं
  14. शिव गुरु गुण गाने से मिल जाता है ज्ञान
    माटी के देह पे किया जाता नहीं है गुमान
    दुनिया बेगानी है जरा सोंच लो...
    यही जिंदगानी है जरा सोंच लो ...

    बहुत सुंदर.....!!
    लाजवाब प्रस्तुती ||

    उत्तर देंहटाएं
  15. Bahut khoob....sawan ka mahina aur aapki kavita se shiv gud-gan...!
    dil ko bahut sukun degaya!

    www.ravirajbhar.blogspot.com

    उत्तर देंहटाएं
  16. काफी सुन्दर रचना हैं आपकी ....जीवन के यतार्थ से परिचय करवाती रचना .....आपका ब्लॉग अच्छा लगा ......ऐसी रचनाये कम देखने को मिलती हैं ......शुभकामनाये

    कभी फुरसत मिले तो हमारे ब्लॉग पर भी आयिए -

    http://jazbaattheemotions.blogspot.com/
    http://mirzagalibatribute.blogspot.com/
    http://khaleelzibran.blogspot.com/
    http://qalamkasipahi.blogspot.com/

    उत्तर देंहटाएं
  17. bahut din ho gaye aapko padhe huye....
    aapka intzaar hai..
    ================================
    मेरे ब्लॉग पर इस बार थोडा सा बरगद..
    इसकी छाँव में आप भी पधारें....

    उत्तर देंहटाएं